प्रधानमंत्री मोदी की फलस्तीन, संयुक्त अरब अमीरात और ओमान यात्रा

Narendra Modi

भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 9 से 12 फरवरी, 2018 तक फलस्तीन, संयुक्त अरब अमीरात और ओमान की यात्रा पर रहे। रास्ते में मोदी जाॅर्डन में रुके, जहां जाॅर्डन के प्रधानमंत्री हनी-अल-मुल्क ने उनका स्वागत किया। जार्डन के शाह अब्दुल्ला-2 के साथ मोदी की महत्त्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा हुई। इसके बाद मोदी रामल्ला जहां से फलस्तीन सरकार संचालित है पहुंचे। फलस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास के मुख्यालय पर उनका स्वागत मेजबान प्रधानमंत्री रामी हमदल्ला ने किया। मेजबान राष्ट्रपति अब्बास ने फलस्तीन के सर्वोच्च सम्मान ‘ग्रैंड काॅलर आॅपफ द स्टेट आॅफ फलस्तीन’ से मोदी को सम्मानित किया। दोनों देशों के बीच छह समझौतों पर हस्ताक्षर हुए। यहां से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आबू धाबी पहुंचे, जहां क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान ने उनका स्वागत किया। दोनों देशों के बीच समुद्र में तेल खनन परियोजना में हिस्सेदारी, ऊर्जा, रेलवे, श्रमशक्ति और वित्तीय सेवाओं संबधी पांच समझौतों पर हस्ताक्षर हुए। मोदी ने आबू धाबी में बनने वाले यहां के पहले मंदिर का शिलान्यास भी किया। उन्होंने संयुक्त अरब अमीरात में 11 फरवरी को ‘विश्व गवर्नमेंट समिट’ को भी सम्बोधित किया। यहां मोदी ने 6-R (Reduce, Reuse, Recycle, Recover, Redesign and Remanufacture)का फार्मूला दिया।


11 फरवरी को मोदी ओमान पहुंचे। मस्कट में सुल्तान कबूस बिन सैद के साथ वार्ता के बाद मोदी ने सैन्य सहयोग, रक्षा, पर्यटन, स्वास्थ्य आदि क्षेत्रों से सम्बन्धित आठ समझौतों पर हस्ताक्षर किए। प्रधानमंत्री मोदी ने ओमान में भारतीय समुदाय को भी संबोधित किया। गौरतलब है कि ओमान में करीब 90 लाख भारतीय रहते हैं।